Translate

सोमवार, 3 जून 2019

,

MAHESHWAR - A Journey to the Spiritual Capital of Ahilyabai Holkar


MAHESHWAR - A Journey to the Spiritual Capital of Ahilyabai Holkar
MAHESHWAR - A Journey to the Spiritual Capital of Ahilyabai Holkar


Hello Friends,
                       अपना Hindi Blog लेकर एक बार फिर मैं आपके समक्ष उपस्थित हूं।
                       आज का मेरा यह Blog मेरी महेश्वर यात्रा से प्रेरित है
                       बहुत समय से कहीं जाना नहीं हुआ था और जब समय मिला तब दोस्तों का साथ नहीं मिल पाया, लेकिन घुमक्कड़ी का जोश कुछ इस तरह तरह चढ़ा कि निकल पड़े अकेले ही हम...
                        जी हां दोस्तों महेश्वर की यात्रा मेरी Solo Trip थी My first solo trip




                         
महेश्वर इंदौर से 95 किलोमीटर दूर नर्मदा के तट पर स्थित एक अध्यात्मिक और ऐतिहासिक Town  है जो खरगोन जिले में स्थित है

                             
                             


                         अगर इतिहास की दृष्टि से देखे तो महेश्वर का अपना अलग ऐतिहासिक महत्व है।

                                

                                       




   महेश्वर का इतिहास

                                                  महेश्वर का इतिहास 2500 साल पुराना है। महेश्वर शहर को माहिष्मती नाम से भी जाना जाता है। महेश्वर का रामायण और महाभारत में उल्लेख मिलता है। पुराणों के  अनुसार महेश्वर हैहवंशीय राजा सहस्त्रार्जुन की राजधानी थी, जिसने रावण को पराजित किया था।


                               


                              मालवा साम्राज्य के अंतर्गत महेश्वर को इंदौर की रानी अहिल्याबाई होल्कर ने धार्मिक राजधानी का दर्जा दिया था जिसके कारण महेश्वर होलकर साम्राज्य का एक अभिन्न बन गया।
                              अब हम इतिहास से निकलकर वर्तमान में आते हैं

How to Reach






By Train - सबसे नजदीकी रेल्वे स्टेशन खंडवा रोड है जो बड़े स्टेशनों से जोड़ता है। इंदौर भी एक मुख्य रेल्वे स्टेशन है जो 94 किमी की दूरी पर है।

By Bus - महेश्वर बस स्टेण्ड है जहां से खंडवा, ओंकारेश्वर, इंदौर के लिए आसानी से बसें उपलब्ध हैं।

By Air - सबसे नजदीकी एयरपोर्ट इंदौर है।



                              


                       
मैं इंदौर से महेश्वर के लिए बस के माध्यम से गई थी तथा लगभग 2 घंटे में मैं महेश्वर पहुंच गई थी महेश्वर घूमने की मेरी 2 वजह थी एक तो नर्मदा  दर्शन और  दूसरा महेश्वर किला।
                         समूचे मध्य प्रदेश की जीवन रेखा कही जाने वाली नर्मदा नदी मेरे भी बहुत करीब है| हमेशा से नर्मदा के घाट मुझे अपनी और आकर्षित करते रहे हैं तथा एक अपार शांति प्रदान करते रहे हैं। इंदौर शहर में मैं हमेशा नर्मदा नदी और इसके घाट को सबसे ज्यादा Miss करती हूं इसलिए अकेले ही महेश्वर आने का प्लान बना लिया ताकि थोड़ी मानसिक शांति भी मिल जाए।







                                 



                          दूसरी वजह हैं महेश्वर किला, यह  ही महेश्वर को एक दर्शनीय स्थान बनाते है तथा महेश्वर के किले को देखने को ना केवल भारतीय पर्यटक अपितु विदेशी पर्यटक भी हर साल महेश्वर आते हैं।
                          महेश्वर पहुंचकर मैं सबसे पहले महेश्वर किला पहुंची। महेश्वर किला को अहिल्याबाई किला भी कहा जाता है महेश्वर किलेे के करीब में ही नर्मदा नदी का घाट है और यह दृश्य एक अद्भुत संगम लगता है।



                                       




                          इस किले की स्थापत्य कला अद्भुत बेमिसाल और बेजोड़ है तथा इसके लिए और नर्मदा घाट के निर्माण में बेसाल्ट पत्थरों का प्रयोग किया गया है जिससे इसकी सुंदरता और आकर्षण बढ़ जाता है  नर्मदा नदी के बिल्कुल किनारे पर बना यह किला जिसका एक द्वार दक्षिण मुखी है जिसका मुख नर्मदा नदी की ओर है। इसका एक मुख्य द्वार भी है जो उत्तर दिशा की ओर खुलता है।

                               

   
                                   मुख्य किले के अंदर अहिल्येश्वर मंदिर सर्वाधिक दर्शनीय है। इस मंदिर की स्थापत्य कला लाजबाव है। इस मंदिर में रामजानकी मंदिर है । यहां से नर्मदा नदी का दृश्य अत्यंत मनमोहक लगता है। अहिल्येश्वर मंदिर के ठीक सामने स्थित है राजेश्वर मंदिर। राजेश्वर मंदिर छत्री के आकार का बना है। जिसमें इंजीनियरिंग के साथ-साथ हिंदु स्थापत्य कला और मुस्लिम स्थापत्य कला का अद्भुत मेल किया।


                          


                                 
                                  किला बाहर से जितना खूबसूरत था, अंदर से उससे भी ज्यादा खूबसूरत था। यहां बहुत शांति थी परंतु मुझे यहां ज्यादा साधु नहीं दिख रहे थे जबकि इसे आध्यात्मिक नगरी कहा जाता है मुझे बस थोड़े बहुत Tourists यहां नजर आ रहे थे।


                         


Heritage Hotel

 
                            इस किले के अंदर रॉयल हेरीटेज होटल बनाया गया है। अहिल्याबाई के वंशज इस होटल को चलाते हैं। होटल में 13 कमरे बने हैं और २ रॉयल सूट है जिस में प्राइवेट बालकनी बनी उसमें से नर्मदा नदी और महेश्वर  का सुंदर नजारा दिखता है। होटल के कमरे ऐसे बनाए गए हैं की नर्मदा नदी की खूबसूरती दिखाई देती है।


                                                  
                         

                                 नर्मदा नदी के घाट पर बहुत सारे शिव जी और गणेश जी के मंदिर है। जैसे कालेश्वर, राजराजेश्वर,अहीलेश्वर, विठ्ठलेश्वर मंदिर है।                                  
    नर्मदा नदी में घाट का बहुत सुंदर प्रतिबिंब दिखता है। नर्मदा नदी को बहुत पवित्र नदी माना जाता है। इस घाट पर बहुत सारे लोग नदी में स्नान करते हुए दिख जाएंगे, यहां हर पूर्णिमा में नर्मदा स्नान का विशेष महत्व है। यहां बोटिंग का मजा भी लिया जा सकता है।


                              


                                 महेश्वर फोर्ट बहुत ही सुंदर और आकर्षक था परंतु आज मौसम मेरा ज्यादा साथ नहीं दे रहा था इसीलिए गर्मी का अनुभव भी मुझे बराबर हो रहा था इसीलिए मैंने किले के बाहर की तरफ मिलने वाले नींबू पानी और गन्ने के रस से मौसम का मुकाबला किया पर गर्मी अपने जोरों पर थी।

                                 



                                  महेश्वर घूमते समय मुझे दूसरी समस्या जो हुई वह थी Photography की कमी।
                                   क्योंकि मैं अकेले आई थी तो मुझे स्वयं की पिक खींचने में कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ा रहा था अकेले होने के कारण मैंने अपनी फोटो के लिए काफी लोगों से मदद ली है यहां के लोगों ने खुशी-खुशी मेरी मदद भी की इसके कारण मेरी अच्छी Pics आ गई।


                            

                               
                                 

                              Solo Traveling का यह एक नकारात्मक पक्ष है Specially तब जब आप को मेरी तरह Pics Click करवाने का शौक हो। यहां पर लोगों के सहयोग के कारण मुझे बहुत सारी अच्छी Photos मिल गई और मेरी Solo Trip भी Memorable हो गई।




                            
                           
                             
किले के संपूर्ण दर्शन के बाद में बाहर घाट की तरफ आ गई यहां पर कुछ समय मैंने नदी किनारे व्यतीत किए। गर्मी के कारण नर्मदा का शीतल जल अमृत समान प्रतीत हो रहा था। अकेले होने के कारण मैंने वोटिंग करना उचित नहीं समझा और कुछ समय घाट में बिताने के पश्चात में वापसी के लिए निकल गई तथा लगभग ढाई घंटे में वापस इंदौर आ गई
                           
                                यह यात्रा यहीं समाप्त होती है पर यहां यात्राओं का दौर जारी रहेगा
                             
                                                           आशा करती हूं मेरी Post आपको अवश्य पसंद आयी होगी अगर आप किसी प्रकार का Suggestions देना चाहते हैं  अथवा  किसी प्रकार का सहयोग चाहते हैं तो आपके Comment सादर आमंत्रित है

       
                                                      Thank you

सोमवार, 25 फ़रवरी 2019

,

JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV


नमस्कार दोस्तों,
                आज एक बार फिर मैं अपना Hindi Blog लेकर आपके समक्ष उपस्थित हूं। आज का मेरा यह Blog भगवान शिव को समर्पित है। आज हम संपूर्ण भारत में स्थित भगवान शिव के ज्योतिर्लिंग की यात्रा करेंगे अर्थात ज्योतिर्लिंग के स्थान स्थिति के बारे में बात करेंगे।


JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV
JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV



                              यह Blog मेरी किसी यात्रा से प्रेरित नहीं है बल्कि यह एक तरह का Travel Guide है यह Travel Guide उन सभी को समर्पित है जो ना केवल भोले बाबा के भक्त हैं बल्कि जो घुमक्कड़ी के भी शौकीन हैं।
                             यह Travel Guide ना केवल भारतीय मुसाफिर अपितु विदेशी पर्यटकों के लिए भी मददगार हो सकता है ताकि हर कोई भारतीय अध्यात्म संस्कृति और विरासत से रूबरू हो सकें।
                                             तो चलिए फिर अपनी ज्योतिर्लिंग यात्रा यात्रा को प्रारंभ करते हैं




JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV
                                                 JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV                                                 



                      भारतीय धर्म पुराणों के अनुसार मान्यता है कि भगवान शिव स्वयं इन 12 ज्योतिर्लिंग वाले स्थान में विराजमान है।
                    ज्योति का अर्थ 'चमक' और शिवलिंग का अर्थ है 'छवि' अर्थात ज्योतिर्लिंग का अर्थ है 'उज्जवल छवि' यहां उज्जवल  छवि से तात्पर्य भगवान शिव से है

     

   द्वादश ज्योतिर्लिंग स्तोत्रम्
सौराष्ट्रे सोमनाथं च श्रीशैले मल्लिकार्जुनम्।
उज्जयिन्यां महाकालमोङ्कारममलेश्वरम्॥
परल्यां वैद्यनाथं च डाकिन्यां भीमशङ्करम्।
सेतुबन्धे तु रामेशं नागेशं दारुकावने॥
वाराणस्यां तु विश्वेशं त्र्यम्बकं गौतमीतटे।
हिमालये तु केदारं घुश्मेशं च शिवालये॥
एतानि ज्योतिर्लिङ्गानि सायं प्रातः पठेन्नरः।
सप्तजन्मकृतं पापं स्मरणेन विनश्यति॥
एतेशां दर्शनादेव पातकं नैव तिष्ठति।
कर्मक्षयो भवेत्तस्य यस्य तुष्टो महेश्वराः॥:
                   




1. SOMNATH
                     
                       सौराष्ट्र देशे विशवेऽतिरम्ये, ज्योतिर्मय चंद्रकलावतंसम्।

                      भक्तिप्रदानाय कृतावतारम् तं सोमनाथं शरणं प्रपद्ये।।




JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV
SOMNATH
                       


Location   प्रभास पाटन सौराष्ट्र गुजरात

                       सोमनाथ ज्योतिर्लिंग भारत का ही नहीं बल्कि इस पृथ्वी का पहला ज्योतिर्लिंग माना गया है कहा जाता है कि इस शिवलिंग की स्थापना स्वयं चंद्र देव ने की थी विदेशी आक्रमण आक्रमण के कारण यह 17 बार नष्ट हो चुका है किंतु आज भी अपने दिव्य गुणों और महत्ता के कारण यह है विरासत के समान सर्वसाधारण के लिए विराजमान है।


JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV
SOMNATH
                       

ज्योतिर्लिंग आरती समय सारणी

प्रातः काल 6 बजे से रात्रि 10 बजे तक दर्शन
प्रातः 7 बजे मंगला आरती,
 12 बजे मध्यान्ह आरती,
 7 बजे संध्या आरती

                     मंदिर प्रांगण में रात 8 बजे से 9 बजे तक एक घंटे का प्रसिद्ध साउंड और लाइट शो 'जॉय सोमनाथ' भी चलता है, जिसमें सोमनाथ मंदिर के इतिहास का बहुत ही सुन्दर चित्र सहित चित्रण किया जाता 
                          
How to Reach
                       यह ज्योतिर्लिंग गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र के वेरावल में स्थित है तथा वेरावल बस मार्ग और रेल मार्ग द्वारा भारत के सभी बड़े शहरों से जुड़ा हुआ है वेरावल से सोमनाथ तक के लिए बस चलती है जिससे यहां पहुंचा जा सकता है
                      
2. MALLIKARAJUN

                         श्रीशैलश्रृंगे विबुधातिसंगे तुलाद्रितुंगेआपि मुदा वसन्तम्।
                          तमर्जुनं मल्लिकपूर्वमेकं नममि संसारसमुद्रसेतुम्।।




JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV
MALLIKARJUN



Location   कुर्नूल, आंध्र प्रदेश
                  (कृष्णा जिले में कृष्णा नदी के तट पर )

                      यह ज्योतिर्लिंग कृष्णा नदी के तट पर श्रीशैल नामक पर्वत पर स्थित है इस मंदिर और पर्वत का महत्व भगवान शिव के कैलाश पर्वत के समान है इसे दक्षिण का कैलाश भी कहा जाता है अनेक धार्मिक शास्त्र इसके धार्मिक और पुराण पौराणिक महत्व की व्याख्या करते हैं यह सदियों से तीर्थ यात्रा के लिए प्रसिद्ध रहा है


JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV
MALLIKARJUN
                                           


ज्योतिर्लिंग आरती समय सारणी

प्रातःकाल 4.30 – 5.00 मंगलवाद्यम
5.15 – 6.30 प्रातः पूजा
6.30 – 1.00 दर्शन अभिषेक
 1.00 – 3.30 अलंकार दर्शन
 4.50 – 5.20 प्रदोष काल पूजा
 5.20 – 6.00 संध्या पूजा
6.20 – 9.00 दर्शनम
10 बजे मंदिर बंद
                     
How to Reach
                                 श्रीशेैलम से 137 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैदराबाद का राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट सबसे नजदीकी एयरपोर्ट है। यहां से आप बस या फिर टैक्सी के जरिए मल्लिकार्जुन पहुंच सकते हैं। यहां का नजदीकी रेलवे स्टेशन मर्कापुर रोड है जो  श्रीशैलम से 62 किलोमीटर की दूरी पर है।
             

                    
3. MAHAKALESHWAR

"आकाशे तारकं लिंगं पाताले हाटकेश्वरम्। 
भूलोके च महाकालो लिंड्गत्रय नमोस्तु ते।।''




JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV
MAHAKAL



Location   महाकाल, उज्जैन, मध्य प्रदेश
                   ( शिप्रा नदी के तट पर)
                    
                                  यह ज्योतिर्लिंग अन्य सभी ज्योतिर्लिंगों में बहुत खास है क्योंकि यह एकमात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है और यहां सुबह होने वाली भस्म आरती विश्व भर में प्रसिद्ध है
                                      यह मान्यता है कि आज भी उज्जैन नगरी के राजा भगवान महाकालेश्वर है तथा इस कारण कोई भी बड़े पदाधिकारी कभी भी उज्जैन में रात्रि विश्राम नहीं करते।


jyotirlingas yatra a spiritual tour devoted to mahadev
MAHAKAL





ज्योतिर्लिंग आरती समय सारणी

मंदिर खुलता और बंद होता है: 4:00 AM to11: 00 PM
भस्म आरती: 4:00 - 6:00 AM
नैवेद्य आरती: 7:30 - 8:15 AM (गर्मियों में, 7:00 - 7:45 AM)
संध्या आरती: 6:30 - 7:00 PM (ग्रीष्म ऋतु में, 7: -00 - 7:30 बजे)
शयन आरती  10:30 बजे
       
How to Reach

                             उज्जैन रेल मार्ग और बस मार्ग द्वारा देश के सभी बड़े शहरों से जुड़ा है वहीं उज्जैन के सबसे करीब स्थित एयरपोर्ट इंदौर में है जहां से आसानी से उज्जैन जाया जा सकता है


ALSO READ : ONE DAY TOUR MAHAKAL KI NAGRI




4. OMKARESHWAR

"कावेरिकानर्मदयो: पवित्रसमागे सज्जनतारणाय।
सदैव मांधातृपुरे वसंतम्, ओंकारमीशं शिवमेकमीडे"।।






JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV
OMKARESHWAR


Location  ओमकारेश्वर, मान्धाता, मध्य प्रदेश (नर्मदा नदी के बीच  स्थित द्वीप पर)
                       ओमकारेश्वर और ममलेश्वर नर्मदा नदी के दोनों तट पर स्थित शिवलिंग है
       
                                           जिस स्थान पर यह ज्योतिर्लिंग  है उस स्थान पर नर्मदा नदी बहती है और पहाड़ी के चारों ओर नदी बहने से यहां का ओम का आकार बनता है यह ज्योतिर्लिंग ओंकार अर्थात ओम का आकार लिए हुए हैं इस कारण से ओंकारेश्वर नाम से जाना जाता है


JYOTIRLINGAS YATRA : A Spiritual Tour Devoted to MAHADEV
OMKARESHWAR
                                 
                          
ज्योतिर्लिंग आरती समय सारणी

प्रातः काल 5 बजे - मंगला आरती एवं नैवेध्य भोग
प्रातः कल 5:30 बजे – दर्शन प्रारंभ 
मध्यान्ह कालीन भोग:
दोपहर 12:20 से 1:10 बजे – मध्यान्ह भोग
दोपहर 1:15 बजे से – पुनः दर्शन प्रारंभ 
सायंकालीन दर्शन:
दोपहर 4 बजे से – भगवान् के दर्शन
(बिल्वपत्र, फूल, नारियल इत्यादि पूजन सामग्री गर्भगृह में ले जाना 4 बजे बाद प्रतिबंधित है|) 
शयन आरती:
रात्रि 8:30 से 9:00 बजे – शयन आरती
रात्रि 9:00 से 9:35 बजे – भगवान् के शयन दर्शन

How to Reach

                     ओमकारेश्वर ज्योतिर्लिंग के पास इंदौर स्थित है जो देश के सभी बड़े शहरों से रेल मार्ग बस मार्ग और हवाई मार्ग के द्वारा जुड़ा है तथा ओमकालेश्वर के सबसे पास स्थित रेलवे स्टेशन ओमकालेश्वर रोड है यहां से आप बस या ऑटो के द्वारा ओमकालेश्वर पहुंच सकते हैं

रविवार, 3 फ़रवरी 2019

,

BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL


Hello friends,
               एक बार फिर मैं अपना Hindi Blog लेकर आपके समक्ष उपस्थित हूं जल्द ही Valentine's day week start होने वाला है और Youngsters के बीच Trips, Vacations, Date और Parties की प्लानिंग स्टार्ट हो गई है
                 मेरा आज का Blog भी वैलेंटाइन डे से Inspired है आज मैं आपको इंदौर में स्थित कुछ Restaurants के बारे में बताऊंगी जहां इस Valentine's Day आप को जरूर जाना चाहिए और एक Happy Week मनाना चाहिए।
                
                      एक बात और अगर आप Single हैं तो आपको परेशान होने या Dull feel करने की जरूरत नहीं है Valentine's Day वैसे तो Couples के लिए महत्वपूर्ण होता हैं। परंतु कोई भी इसे Celebrate कर सकता है। Celebrate करने से हमें रोका किसने है??
                              तो आप भी अपने Friend's, Family, Roomies, Colleague's के साथ इस बार Valentine's Day सेलिब्रेट करें और इन रेस्टोरेंट में जरूर जाए।
                         चलिए देखते हैं वह कौन कौन से रेस्टोरेंट है जहां हम एक शानदार और हसीन शाम बिता सकते हैं



BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL



1.  KEBABSVILLE

              
BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
KEBABSVILLE



BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
KEBABSVILLE
                                 

                                                     एक बेहतरीन Moments के लिए यह स्थान बहुत बढ़िया है यह Sayaji के courtyard  में है Valentine's Day की Special शाम के लिए यह स्थान Perfect हैं।

Address -- Sayaji  Hotel, H 1, Ware House Rd, Scheme No.54, Vijay Nagar, Indore,

For Reservations & Queries -- 0731 3301159

FOR MORE DETAILS -- KEBABSVILLE



2. INDIYA OYE



BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
INDIYA OYE


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
INDIYA OYE
                              
                                                                                                             
                            Indiya Oye, Radisson Blu Hotel के Restaurants में से एक हैं। यहाँ आपको India के सभी बेहतरीन Cuisine मिल जायेंगे। Valentine's Day की खूबसूरत शाम के लिए यह स्थान Best हैं।

Address -- Radisson Blu  Hotel 12, Eastern Ring Rd, Scheme No 171, Vijay Nagar, Indore.

For Reservations & Queries -- +91 731 473 8888

FOR MORE DETAILS -- INDIYA OYE


3. MANGOSTEEN


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
MANGOSTEEN
                            



BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
MANGOSTEEN
                              
    
                                               

                                                          Valentine's Day के  लिये बहुत सही जगह है। Ambience काफी अच्छा हैं। Music के कारण माहौल और भी हसीन हो जाता हैं।
                   
Address -- No 4/5, 5th Floor, Pushpratna Solitaire, New Palasia, Indore

For Reservations & Queries -- 0731- 4974545

FOR MORE DETAILS -- MANGOSTEEN


4. CAFE TERAZZA



BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
CAFE TERAZZA
                       

BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
CAFE TERAZZA
                                     
           
                                             
                                                               Rooftop Cafe में बहुत ही शानदार Cafe है। Ambience और Music दोनों Amazing हैं। Valentine's Day Celebrate करने के लिए बहुत अच्छी जगह हैं।


Address -- Airen Heights, 10th Floor, Agra Bombay Rd, LIG Colony, Indore,

For Reservations & Queries -- +91 731 428 2626

FOR MORE DETAILS -- CAFE TERAZZA


5. MONROE CAFE


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
MONROE CAFE
                     


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
MONROE CAFE
                          


                        यह Cafe, Indore के बेहतरीन Cafe में से एक हैं। Ambience बहुत ही अच्छा हैं और किसी Special One के साथ Quality Time Spend करने के लिए बहुत ही शानदार Cafe है।

Address -- Near 56 Shops, Gold Stone Building, 3/5, New Palasia, Indore

For Reservations & Queries -- 0731-4002883 |+91-90091 59149

FOR MORE DETAILS -- MONROE CAFE


6. THE STORY CAFE


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
THE STORY CAFE
                 


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
THE STORY CAFE
                               

                         
                            Indore के बेहतरीन Rooftop Cafe में से एक हैं। Ambience बहुत ही शानदार हैं। Special Days के लिए बहुत ही अच्छी जगह हैं। Valentine's Day Celebrate करने के लिए एक बेहतरीन Option हैं।

Address -- S.N.Arcade Sch. No. 78 in front of Prestige Collage, Vijay Nagar, Indore,

For Reservations & Queries -- 097697 48434

FOR MORE DETAILS -- THE STORY CAFE


7. LEAVES & LOAFS

BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
LEAVES & LOAFS
                       


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
LEAVES & LOAFS
                                   


                        यहाँ का Ambience बहुत ही शानदार हैं। Valentine's Day की खूबसूरत शाम के लिए यह स्थान Perfect हैं।


Address -- 320 pu4 scheme no. 54, Vijay Nagar, Indore,

For Reservations & Queries -- 06265083409

FOR MORE DETAILS -- LEAVES & LOAFS

8. DOWN TOWN CAFE


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
DOWN TOWN CAFE
               

                      
BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
DOWN TOWN CAFE
                                              

                                                              Valentine's Day Celebrate करने के लिए बहुत ही अच्छी जगह हैं। Ambience और Music दोनों शानदार हैं।

Address -- Old Agarwal Nagar,, 12A, Durga Nagar, Old Agarwal Nagar, Navlakha, Indore,

For Reservations & Queries -- 0731 408 8800

FOR MORE DETAILS -- DOWN TOWN CAFE

9.  JAL-- A JUNGLE RESTAURANT



BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
JAL - A JUNGLE RESTAURANT
                   


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
JAL - A JUNGLE RESTAURANT
                        


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
JAL - A JUNGLE RESTAURANT
                     

                             प्राकृतिक माहौल लिये शहर के शोरगुल से दूर बहुत ही शानदार जगह हैं। Special Occasions और Surprises देने के लिए बेहतरीन Restaurant हैं। Valentine's Day Celebrate करने के लिए बहुत अच्छी जगह हैं।

Address -- Khandwa Road, Krishnakunj Colony, Kasturba Gram, Indore,

For Reservations & Queries -- +91-96864 13123


FOR MORE DETAILS -- JAL A JUNGLE RESTAURANT

10.  HAVELI THE BUNGALOW CAFE


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
HAVELI THE BUNGALOW CAFE
                            


BEST RESTAURANTS IN INDORE FOR COUPLES : VALENTINE'S DAY SPECIAL
HAVELI THE BANGALOW CAFE
                                       

                                                          Couples के लिए यह स्थान Perfect हैं। यहाँ का Ambience काफी अच्छा हैं। Valentine's Day Celebrate करने के लिए यह बेहतरीन Restaurant में से एक हैं।

Address -- FH-15 Scheme no. 54, Vijaynagar, opposite Power house or FH Garden, Indore

For Reservations & Queries -- 08319565443

FOR MORE DETAILS -- HAVELI THE BANGALOW CAFE 

                         I hope आपको मेरी यह List अवश्य पसंद आई होगी और I Wish इस Valentine's Day आप यहां जाकर बहुत Enjoy करेंगे अगर कुछ छूट गया हो या किसी प्रकार का Suggestions आप देना चाहते हैं तो Comments Box में दे सकते हैं।

                                         THANK YOU


शुक्रवार, 25 जनवरी 2019

,
Follow my blog with Bloglovin

                  Top 15 Things to do in Ujjain



   नमस्कार दोस्तों,
               आज एक बार फिर मैं अपना Hindi Blog लेकर आपके समक्ष उपस्थित हूँ। मेरी पिछली Post
में आपने मेरी Ujjain Trip के बारे में पढ़ा था अगर नहीं पढ़ा है तो आप नीचे दी Link में Click करके पढ़ सकते हैं।
One Day Tour MAHAKAL KI NAGRI
Ujjain Trip में वक्त की कमी के कारण हम लोग बहुत सी जगह नही जा पाये इसलिए मैं आपके लिए Ujjain के प्रमुख स्थानों की एक List लेकर आयी हूँ ताकि आप अपनी Trip को Well managed और Memorable बना पाये।

Top 15 things to do in Ujjain


TOP 15 THINGS TO DO IN UJJAIN
TOP 15 THINGS TO DO IN UJJAIN
                 

1.Mahakal Temple

TOP 15 THINGS TO DO IN UJJAIN
MAHAKAL TEMPLE
                   

                                                                 यह 11 वीं शताब्दी ईस्वी में परमार वंश के शासक द्वारा पुनर्निर्मित किया गया था। 1234-35 ईस्वी के दौरान, दिल्ली के सुल्तान इल्तुतमिश ने उज्जैन पर हमला किया और मंदिर में दस्तक दी। सदियों से, मंदिर को विनाश, पुनर्निर्माण और नवीकरण का सामना करना पड़ा
                  रुद्र सागर झील के पास स्थित वर्तमान पांच स्तरीय मंदिर का पुनर्निर्माण 18 वीं शताब्दी ईस्वी में किया गया था
                  महाकालेश्वर मंदिर में सबसे महत्वपूर्ण और अनोखी पूजाभस्म आरती है , जो हर दिन सुबह 4 बजे होती है।


2.Ramghat

TOP 15 THINGS TO DO IN UJJAIN
        RAMGHAT                         



                                                                  राम घाट शिप्रा नदी के एक प्रमुख घाट है यहीं पर कुंभ मेले का भी आयोजन किया जाता है, जहाँ लाखों श्रद्धालु इस आयोजन के दौरान एकत्र होते हैं। यहाँ की आरतीप्रसिद्ध है और घाट को उज्जैन में सबसे पुराना स्नान घाट माना जाता है।


3.Kal Bhairav Temple

TOP 15 THINGS TO DO IN UJJAIN
KAL BHAIRAV TEMPLE
                     

                                               काल भैरव मंदिर एक प्राचीन मंदिर है, जो काल भैरव को समर्पित है, जो भगवान शिव की उग्र अभिव्यक्ति का प्रतीक हैं। काल भैरव की पूजा शैव (शिव का उपासक) परंपरा का एक हिस्सा है, मुख्य रूप से कपालिका और अघोरा संप्रदायों द्वारा। नतीजतन, काल भैरव को अनुष्ठान के हिस्से के रूप में शराब चढ़ायी जाती है।



4. Mangalnath Temple

TOP 15 THINGS TO DO IN UJJAIN
MANGALNATH TEMPLE
                             


                                                      मंगलनाथ मंदिर क्षिप्रा नदी के दृश्य के साथ शहर से दूर स्थित है। प्राचीन शास्त्रों के अनुसार, यह मंगल ग्रह का जन्मस्थान है प्राचीन समय में, यह मंगल ग्रह के स्पष्ट दृश्य के लिए सबसे आदर्श भौगोलिक स्थान था। कहा जाता है कि यह कर्क रेखा के चौराहे का बिंदु है और पृथ्वी से गुजरने वाला शून्य देशांतर है।


5.Vedh Shala (Jantar Mantar)

TOP 15 THINGS TO DO IN UJJAIN
VEDH SHALA [JANTAR MANTAR]
                     

                                                       यह वेधशाला महाराजा जय सिंह द्वितीय द्वारा 1725 ईस्वी और 1730 ईस्वी के बीच बनाई गई थी। पांच मुख्य यंत्र हैं जो ग्रहों की गति और कक्षाओं का अध्ययन करते हैं।
महाराजा जय सिंह द्वितीय द्वारा निर्मित पाँच वेधशालाओं में यह एकमात्र वेधशाला है, जहाँ खगोलीय अध्ययन के लिए मेसोनिक उपकरणों का उपयोग किया जाता है। अन्य चार में जयपुर, दिल्ली, मथुरा और वाराणसी के जंतर मंतर शामिल हैं।


6. Harsiddhi Temple

TOP 15 THINGS TO DO IN UJJAIN
HARSIDDHI TEMPLE
                     


                                                                   ऐसा कहा जाता है कि राजा विक्रमादित्य हरसिद्धि माता के बहुत बड़े भक्त थे। हरसिद्धि मंदिर देश के सबसे प्रसिद्ध शक्‍तिपीठों (हिंदू देवी-देवताओं के पवित्र निवास) में से एक है। मंदिर में महालक्ष्मी की मूर्तियां, धन की देवी, भाग्य और समृद्धि; महासरस्वती, ज्ञान, संगीत और कला की देवी; और अन्नपूर्णा की प्रसिद्ध अंधेरे सिंदूर की छवि, पोषण की देवी उनके बीच बैठी थी। शक्ति या शक्ति का प्रतीक, श्री यंत्र , या नौ त्रिकोण जो दुर्गा के नौ नामों का प्रतिनिधित्व करते हैं, शक्ति और शक्ति की देवी, मंदिर में भी निहित हैं।
               हरसिद्धि मंदिर में दैनिक पुजारियों या व्यक्ति दीपमालिकाओं में चढ़ते हैं और प्रति दिन 1000 दीपक जलाते हैं। 


7. Bade Ganesh Temple


BADE GANESH 
                    

                                                                                महाकालेश्वर मंदिर से कुछ मीटर की दूरी पर बडे गणेश मंदिर है, जो भगवान गणेश को समर्पित है, हाथी के सिर वाले भगवान और समृद्धि और भगवान शिव के पुत्र हैं।
। यह गणेश मंदिर ज्योतिष और संस्कृत भाषा के अध्ययन का एक महत्वपूर्ण केंद्र भी है।
                                    यह देश का एकमात्र मंदिर है जिसमें पंचमुखी (पांच मुख वाला ) बंदर-भगवान हनुमान की मूर्ति है जो साहस, निष्ठा, भक्ति, शक्ति और धार्मिकता का प्रतीक है।


8. Navagraha Triveni (Shani Temple)

                    

                                                                     शिप्रा के त्रिवेणी घाट पर स्थित, यह मंदिर नवग्रह को समर्पित है - हिंदू खगोल विज्ञान के नौ (नव) प्रमुख आकाशीय पिंड (ग्रहा): सूर्य (सूर्य), चंद्र (चंद्रमा), चेवई / मंगल (मंगल), बुधन ( बुध), गुरु / बृहस्पति (बृहस्पति), शुक्रा (शुक्र), शनि (शनि), राहु (उत्तर चंद्र नोड) और केतु (दक्षिण चंद्र नोड)। यह शनिवार को पड़ने वाली अमावस्या के दिन बड़ी भीड़ को आकर्षित करता है।



9. Chintaman Ganesh Temple

            

क्षिप्रा नदी के पार, चिंतामण गणेश मंदिर एक प्राचीन मंदिर हैयहाँ गणेश प्रतिमा को स्वयंभू माना गया है (जो अन्य छवियों के साथ अनुष्ठानिक रूप से स्थापित और मन्त्र-शक्ति के साथ निवेशित है ) केभीतर से शक्ति का प्रवाह प्राप्त होता है। भगवान गणेश की पत्नी ऋद्धि और सिद्धि उनके दोनों ओर विराजमान हैं।


10. Gadhkalika Temple

                                     

गढ़कालिका मंदिर शहर से 2 मील (KM) की दूरी पर उज्जैन की एक अन्य शक्ति पीठ (हिंदू देवी देवताओं के पवित्र निवास स्थान) है। पीठासीन देवता गढ़कालिका देवी हैं, जिनकी मूर्ति भगवा रंग की सामान्य मूर्तियों के विपरीत काले रंग की हैं।
                 यह प्राचीन मंदिर 7 वीं शताब्दी ईस्वी में सम्राट हर्षवर्धन द्वारा पुनर्निर्मित किया गया था। किंवदंती है कि प्रसिद्ध शास्त्रीय संस्कृत लेखक कालीदास इस मंदिर में नियमित रूप से आते थे। देवी की महान भक्ति के कारण, उन्हें सर्वोच्च साहित्यिक कौशल प्राप्त हुआ था।



11. Gopal Mandir

                      

गोपाल मंदिर 19 वीं शताब्दी का एक सुंदर मंदिर है जो भगवान कृष्ण को समर्पित है। यह शहर के व्यस्त बाजार चौक के ठीक बीच में स्थित है। मंदिर, मराठा वास्तुकला का एक बेहतरीन उदाहरण हैं। मंदिर महाराजा दौलत राव शिंदे की रानी, ​​बैजाबाई शिंदे द्वारा बनाया गया था।



12. Sandipani Ashram

                    

                                                                  अपने धार्मिक और राजनीतिक महत्व के अलावा, प्राचीन उज्जैन एक महान शिक्षा और शिक्षा का सबसे पुराना केंद्र था। शहर से 2 KM दूर स्थित सांदीपनि आश्रम, महान पौराणिक मूल्य का एक स्थान है। इसका नाम भगवान कृष्ण के गुरु (गुरु) महर्षि सांदीपनि के नाम पर रखा गया है। ऐसा माना जाता है कि भगवान कृष्ण ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा बड़े भाई बलराम और मित्र सुदामा के साथ यहां प्राप्त की थी। 


13.Kalideh Palace

                   

                           कालीदेह पैलेस मंदिर शहर के सबसे प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थलों में से एक है। शिप्रा नदी महल के दोनों ओर से बहती है महल के मैदान में एक शिलालेख में कहा गया है कि महल 1458 ईस्वी में मुस्लिम शासक महमूद खिलजी के शासनकाल के दौरान बनाया गया था। महल में फारसी स्थापत्य शैली है। इस महल में दो अलग-अलग शिलालेखों से दो मुगल राजाओं, अकबर और जहांगीर की जानकारी मिलती है।



14. Bhartrihari Caves


                           





                                उज्जैन में भर्तृहरि गुफाएं महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल हैं। अवध, गढ़कालिका मंदिर के पास शिप्रा नदी के तट के ठीक ऊपर स्थित हैं और उस स्थान के रूप में प्रसिद्ध हैं जहां राजा विक्रमादित्य के भाई ने सभी सांसारिक संपत्ति और संबंधों को त्यागने के बाद ध्यान किया था। संत का नाम भर्तृहरि था, इस प्रकार गुफा को यह नाम मिला। कहा जाता है कि भर्तृहरि एक महान विद्वान और प्रतिभाशाली कवि थे।



15. Vikramaditya statue

                                        


                            यहां पर विक्रमादित्य की सिंहासन बत्तीस में विराजमान फीट ऊंची प्रतिमा है विक्रमादित्य के साथ ही उनके दरबार के सभी महान रत्नों को भी यहां सुशोभित किया गया है
               उनके सिंहासन को 'सीट ऑफ जजमेंट' के रूप में जाना जाता है ...
               इस परिसर में एक मंदिर भी स्थापित है साथ ही एक छोटा गार्डन भी यहां है जिसमें सिंहासन बत्तीस की सभी पुतलियां स्थापित की गई हैं।

                   आशा करती हूँ आपको मेरा यह Blog जरूर पसंद आया होगा और मेरी इस List से आप अपनी यात्रा को ज्यादा रोचक और यादगार बना पायेंगे।
            Thank You


Featured Post

TRAVEL TIPS FOR NEW YEAR

Travel Tips For New Year 5 TIPS FOR NEW YEAR TRAVELING  Traveling in new year can be disastrous if you don't follow these gol...

SPECIAL POSTS

Follow Us @travel.loverankiii